शवदाह के लिए वन विभाग में लकड़ी का टोटा, लकड़ी के लिए भटक रहे लोग

By vindhyanews18.com Thu, Apr 22nd 2021 जनसंपर्क 94 Views    


राजकुमार तिवारी--


मझौली:-- एक तरफ जहां कोरोना महामारी के चलते आम आदमी का जीवन मुश्किल और कठिनाई से भरा हुआ है वहीं दूसरी तरफ अगर ऐसी स्थिति में किसी परिवार में किसी की मृत्यु हो जाए और उसे शवदाह के लिए लकड़ी को परेशान होना पड़े तो यह बहुत ही भयावह और पीड़ादाई स्थित होती है। और ऐसे मामले में जहां परिक्षेत्र अधिकारी का कहना है कि नगर निकाय को लकड़ी उपलब्ध कराने की जिम्मेवारी है जबकि मुख्य नगर पालिका अधिकारी का कहना है कि नगर क्षेत्र में डीपो की व्यवस्था इसीलिए की जाती है ताकि वन विभाग उचित रेट पर शवदाह के लिए लकड़ी उपलब्ध कराए यह कहकर एक दूसरे को इसका जिम्मेदार बता रहे हैं कुछ इसी तरह की स्थिति नगर परिषद क्षेत्र मझौली अंतर्गत बनी हुई है जहां पहले शवदाह के लिए वन परिक्षेत्र कार्यालय मझौली में पर्याप्त मात्रा में लकड़ी उचित रेट पर मिल जाती थी लेकिन 6 माह से लकड़ी नहीं मिल रही है जिससे लोगों को काफी परेशान होना पड़ता है। ऐसे में लोग सवाल उठा रहे हैं कि जब शासन प्रशासन द्वारा कोरोना कर्फ्यू लगा कर यह आदेश जारी किया जाता है कि जिम्मेदार विभाग अपने-अपने जिम्मेवारी का इमानदारी पूर्वक एवं संवेदनशीलता के साथ पालन करें और यह आदेश वन विभाग के लिए भी लागू होता है जिसकी जिम्मेवारी है कि शवदाह के लिए लोगों को लकड़ी उपलब्ध कराए लेकिन विभाग के जिम्मेदार परिक्षेत्र अधिकारी अपनी जिम्मेदारी से बचते हुए नजर आ रहे हैं या कि इनमें संवेदनशीलता ही नहीं है जिस ओर लोगों ने जिला प्रशासन का ध्यान आकृष्ट कर वन विभाग को लकड़ी उपलब्ध कराने के लिए शीघ्र आदेश जारी करने की मांग की हैं।

मेरे पिता का स्वर्गवास हो गया है जिनके शवदाह के लिए मैंने वन विभाग में भी एवं नगर परिषद में लकड़ी की मांग की लेकिन कहीं से लकड़ी नहीं मिली जिसके लिए हमें काफी परेशान होना पड़ा।

चंदा कोल निवासी नगर परिषद मझौली वार्ड क्रमांक 12

मेरी माँ की मृत्यु होने पर शवदाह के लिए लकड़ी को काफी परेशान होना पड़ा था ना तो जंगल विभाग द्वारा हमें लकड़ी मिली और ना ही नगर परिषद से।

अनिल कोल निवासी नगर परिषद मझौली वार्ड क्रमांक 12

वन विभाग से नगर परिषद को लकड़ी उपलब्ध कराई जाती है और वहां से लोगों को शवदाह के लिए लकड़ी दी जाती है अभी ₹50 हजार रुपये लकड़ी का नगर परिषद में ही हमारा बकाया है। प्रेमलाल बंशकार परिक्षेत्र अधिकारी
वन परिक्षेत्र मझौली

नगर क्षेत्र में वन विभाग का डीपो होता है जिसकी जिम्मेदारी है कि शवदाह के लिए उचित रेट पर लकड़ी उपलब्ध कराए। नगर परिषद सिर्फ ठंडी के सीजन में अलाव के लिए लकड़ी खरीदता है।
राजेश सिंह भदौरिया मुख्य नगर पालिका अधिकारी नगर परिषद मझौली

5 दिन पूर्व मेरे दादा जी का स्वर्गवास हो गया था जिसके लिए शवदाह हेतु लकड़ी लेने वन विभाग में गया जहां से लकड़ी नहीं प्राप्त हुई जिससे काफी परेशान होना पड़ा और जिला प्रशासन से मांग करता हूं कि लकड़ी उपलब्ध कराने हेतु विभाग को सख्त आदेश जारी किया जाए।
अमित सिंह (अज्जू) निवासी नगर परिषद मझौली वार्ड क्रमांक 11

निश्चित तौर पर यह बहुत ही संवेदनशील और गंभीर बात है नगर क्षेत्र में शवदाह के लिए लकड़ी उपलब्ध कराना वन विभाग की जिम्मेदारी है अगर ऐसी स्थिति बनी है तो मैं आज ही कलेक्टर से बात करूंगा और लकड़ी उपलब्ध कराने की मांग करूंगा।
राजेंद्र सिंह भदौरिया वरिष्ठ कांग्रेस नेता एवं पूर्व अध्यक्ष जिला सहकारी केंद्रीय बैंक मर्यादित सीधी

बात हमारे संज्ञान में आई है मैं अभी विधायक जी को इस बात से अवगत कराऊंगा और जल्द ही इस मामले में पहल की जाएगी ताकि लोगों को शवदाह के लिए लकड़ी को भटकना न पड़े।

प्रवीण तिवारी
विधायक प्रतिनिधि एवं
अध्यक्ष भारतीय जनता पार्टी मंडल मझौली

Similar Post You May Like

  • 2 मांह में एक ही परिवार के चौथे व्यक्ति की हुई मौत बेसहारा बेटी को  सदमा

    2 मांह में एक ही परिवार के चौथे व्यक्ति की हुई मौत बेसहारा बेटी को सदमा

    राजकुमार तिवारी-- हो सकता है कोरोना का कहर, जांच उपचार की जिम्मेदारी स्वास्थ्य विभाग की --सीएमओ मझौली-- माता-पिता व दादी के मौत से जहां शारीरिक, आर्थिक एवं मानसिक रूप से टूट चुकी बेसहारा बेटी के परिवार में बुजुर्ग के नाम पर 76 वर्षीय दादा बचे थे वह भी आखिरकार इस दुनिया से उसे छोड़कर विदा हो गए जिससे उसे बड़ा आघात लगा है। मामला नगर पंचायत मझौली के वार्ड क्रमांक 12 का प्रकाश में आया है

  • खबर प्रकाशन के बाद जिम्मेदारों की टूटी नींद सहायता एवं जांच की गतिविधि हुई तेज

    खबर प्रकाशन के बाद जिम्मेदारों की टूटी नींद सहायता एवं जांच की गतिविधि हुई तेज

    राजकुमार तिवारी-- मझौली-- एक तरफ जहां तमाम जिम्मेदार विभाग के होते हुए आदिवासी परिवार जिसमें माता-पिता एवं दादी के असामयिक मौत से बेसहारा हुई बेटी को किसी की परवाह नहीं थी लेकिन जैसे ही पूरे घटनाक्रम को लेकर मीडिया के द्वारा खबर प्रकाशित की गई तब जाकर जिम्मेदारों की नींद खुली और एक तरफ जहां आर्थिक मदद शुरू हो गई वहीं दूसरी तरफ मामले को लेकर जांच भी शुरू हो चुकी है। बताते चलें कि न

  • खबर का असर बेसहारा बेटी को सीईओ ने दी आर्थिक  सहायता परिषद पर सवाल?

    खबर का असर बेसहारा बेटी को सीईओ ने दी आर्थिक सहायता परिषद पर सवाल?

    राजकुमार तिवारी-- मझौली --नगर पंचायत मझौली के वार्ड नंबर 12 में एक आदिवासी परिवार में 2 माह के अंदर माता पिता और दादी की मौत से बेसहारा हुई लड़की को लेकर 7 जून को वेव न्यूज़ पोर्टल "विंध्य न्यूज 18"ने प्रमुखता से खबर प्रकाशित की थी जिसे गंभीरता से लेते हुए जनपद पंचायत मझौली के प्रभारी मुख्य कार्यपालन अधिकारी एस एन द्विवेदी के द्वारा ₹5000 आर्थिक सहायता अतिरिक्त कार्यक्रम अधिकारी अरविंद

  • कोरोना कॉल ने निगल लिया माता,दादी व पिता का साया,बेसहारा हुई बेटी।

    कोरोना कॉल ने निगल लिया माता,दादी व पिता का साया,बेसहारा हुई बेटी।

    मजदूर आदिवासी परिवार में 2 माह के अंदर टूटा दुःखों का वज्रघात मझौली-- इस कोरोना महामारी ने कई परिवारों को ऐसी स्थिति में ला दिया है जहां माता पिता के देखते देखते उनके बच्चे मौत के आगोश में आ गए हैं वहीं कई बच्चों के देखते-देखते उनके माता-पिता ही इस महामारी से दुनिया से विदा हो गए और ऐसे बच्चे अब अनाथ हो गए हैं।इतना ही नहीं करोना महामारी के डर से अस्पतालों में कई लोगों की ना तो जांच की

  • आखिरी कब तक नदियों का सीना छलनी होता देखेगा प्रशासन-

    आखिरी कब तक नदियों का सीना छलनी होता देखेगा प्रशासन-

    भाजपैया नेता का पुत्र कर रहा भुमका रेत खदान में गोपद नदी का सीना छलनी....! सीधी। रेत खदान संचालन की मंजूरी की आड़ में संविदाकार द्वारा नियमों को ताक पर रखकर रेत का उत्खनन किया जा रहा है। उत्खनन करते समय पानी की मुख्य धारा को रोककर संविदाकार एनजीटी के निर्देश की धज्जियां उड़ाई जा रही है। यहां तक कि जेसीबी (टू-टेन) वाहन से नदी का सीना चीरकर रेत का उत्खनन किया जा रहा है।रेत खदानों में

  • आकाशीय बिजली गिरने से श्रमिक की हुई मौत

    आकाशीय बिजली गिरने से श्रमिक की हुई मौत

    मझौली--थाना क्षेत्र मझौली अंतर्गत ग्राम कोठार ओपन गल्ला गोदाम में आकाशीय बिजली गिरने से एक श्रमिक की मौके पर ही मौत हो गई।पुलिस द्वारा प्राप्त जानकारी के अनुसार अजय कोल पिता ददुली कोल उम्र 35 वर्ष निवासी शुकवारी थाना जमोड़ी जिला सीधी जो गेहूं ढुलाई वाहन में काम करता था एवं शनिवार शाम 8:30 बजे के लगभग गल्ला गोदाम में ही रुका था जो सौच के लिए बाहर गया था उसी समय आकाशीय बिजली गिरी जिसकी च

  • जल संरक्षण को खुली चुनौती आधा दर्जन पम्पों से फेंका जा रहा तालाब का पानी

    जल संरक्षण को खुली चुनौती आधा दर्जन पम्पों से फेंका जा रहा तालाब का पानी

    राजकुमार तिवारी-- मझौली --एक तरफ जहां जल संरक्षण को प्राथमिकता देते हुए प्रदेश सरकार द्वारा ग्राम पंचायतों को विशेष दिशा निर्देश जारी करते हुए बजट जारी किया गया है ताकि ग्राम स्तर पर जल संरक्षण के ज्यादा से ज्यादा कार्य कराए जा सके वही इस आदेश एवं अभियान को ठेंगा दिखाते हुए जनपद क्षेत्र मझौली अंतर्गत ग्राम पंचायत पांड में आधा दर्जन मशीनों के द्वारा कई दिनों से तालाब का पानी फेंका

  • एकता परिषद का कोरोना  जागरूकता रथ यात्रा गंजरी में  समापन

    एकता परिषद का कोरोना जागरूकता रथ यात्रा गंजरी में समापन

    राजकुमार तिवारी-- मझौली--तहसील क्षेत्र मझौली अंतर्गत कोरोना महामारी नियंत्रण एवं उससे बचने के तौर तरीका को आम लोगों तक पहुंचाने व लोगों को जागरूक करने के उद्देश्य से एकता परिषद व मानव जीवन विकास समिति के आयोजकत्व में जिला इकाई सीधी की संयोजक सरोज सिंह एवं सामाजिक कार्यकर्ता रंग देव कुशवाहा के द्वारा तीन दिवसीय "किल कोरोना जागरूकता"रथ यात्रा 28 मई से शुरू की गई थी जिनके द्वारा

  • आमने सामने बाइक की भिड़ंत दोनों की उपचार के दौरान मौत

    आमने सामने बाइक की भिड़ंत दोनों की उपचार के दौरान मौत

    मझौली-- मझौली थाने के सामने शनिवार शाम 5:30 के लगभग दो बाइक सवारों की आमने-सामने की भिड़ंत में दोनों गंभीर रूप से घायल हो गए जिन्हें प्राथमिक उपचार के उपरांत जिला चिकित्सालय सीधी के लिए रेफर कर दिया गया था जहाँ उपचार के दौरान दोनों की मौत हो गई। बताते चलें कि प्रिंस पिता विजय कोल उम्र 20 वर्ष निवासी जिल्ला टोला करमाई थाना मझौली एवं दीप पिता गया प्रसाद कुशवाहा उम्र 20 वर्ष निवासी कछरा,थ

  • रोजगार गारंटी से चल रहा नदी सफाई का कार्य मजदूरों को मिल रहा  रोजगार

    रोजगार गारंटी से चल रहा नदी सफाई का कार्य मजदूरों को मिल रहा रोजगार

    मझौली-- एक तरफ जहां जनपद क्षेत्र मझौली की ज्यादातर ग्राम पंचायतों में सचिव एवं रोजगार सहायक द्वारा रोजगार गारंटी में भारी फर्जीवाड़ा करते हुए जेसीबी मशीन से लाखों का कार्य कराया जा रहा है एवं फर्जी लोगों के नाम मस्टररोल जारी कर राशि का बंदरबांट किया जा रहा है वहीं इससे इतर ग्राम पंचायत सिरौला में रोजगार गारंटी का वास्तविक उद्देश्य साकार होता नजर आ रहा है। ग्राम पंचायत में सें

ताज़ा खबर

Popular Lnks