वन चौकी बाउंड्रीवाल निर्माण में जंगल से हो रहा रेत का अबैध उत्खनन व परिवहन विभाग के अधिकारी वन संपदा को मान रहे पैतृक जायदाद मामला वन परिक्षेत्र मझौली के बीट बड़काडोल का

By vindhyanews18.com Mon, Oct 19th 2020 इंडिया 603 Views    


मझौली:-- एक तरफ वन संपदा के सुरक्षा एवं रखरखाव हेतु वन विभाग द्वारा चौकीदार से लेकर वनरक्षक, सहायक परीक्षेत्र अधिकारी एवं परिक्षेत्राधिकारी जैसे अधिकारी कर्मचारी की नियुक्ति कर जिम्मेवारी दी गई है लेकिन उन्हीं अधिकारियों द्वारा जब वन संपदा को पैतृक जायदाद मानते हुए अवैध तरीके से उसका दोहन माफियाओं से सांठगांठ कर किया जाय और उसे कमाई का जरिया बनाया जाता है तब पूरे विभाग पर सवालिया निशान खड़ा होता है? कुछ ऐसा ही मामला इन दिनों वन परिक्षेत्र मझौली के बीच बड़काडोल का प्रकाश में आया है जहां बन चौकी बड़काडोल के बाउंड्री वाल का निर्माण कार्य चल रहा है जिसमें बीट बड़काडोल के झरिया प्लांटेशन नाला एवं बनास नदी से वन सीमा क्षेत्र होकर रेत का उत्खनन एवं परिवहन निर्माण कार्य के लिए किया जा रहा है जबकि वन सीमा क्षेत्र से चलित सड़क के अलावा बाकी क्षेत्र वाहन परिवहन के लिए प्रतिबंधित माना जाता है बावजूद इसके धड़ल्ले से रेत का उत्खनन व परिवहन हो रहा है।
सूत्रों की माने तो रेत का उत्खनन एवं परिवहन का कारोबार सिर्फ बाउंड्रीवाल निर्माण तक ही सीमित नहीं है बल्कि रेत माफियाओं से वन विभाग के अधिकारी कर्मचारियों की जुगलबंदी चल रही है और इन्हीं के संरक्षण में रेत का कारोबार हो रहा है जिसकी बांनगी बोदारी एवं चमराडोल में कई जगह भंडारित रेट के रूप में देखा जा सकता है इतना ही नहीं इसकी पुष्टि इस बात से भी होती है कि एक रेत कारोबारी का ट्रैक्टर मझौली पुलिस द्वारा वन सीमा क्षेत्र से पकड़ कर थाना ले जाया जाता है और उसके बचाव में वन विभाग के अधिकारी आ जाते हैं और कहते हैं कि उनके द्वारा पकड़े गए ट्रैक्टर को लकड़ी परिवहन के लिए बुलाया गया था।मजे की बात तो यह है कि किसी भी ट्रैक्टर को बैध प्रक्रिया के तहत भी रात को वन सीमा क्षेत्र में नहीं ले जाया जा सकता है यह भी बड़ा सवाल है। इतना ही नहीं वन चौकी के सामने ही 2 माह पूर्व सागौन के विशालकाय पेड़ काटे गए थे एवं हाल ही में भी सागौन के कई पेड़ कटे हैं जिससे यह कहना गलत ना होगा कि लकड़ी तस्करी भी वन विभाग के अधिकारी कर्मचारियों के सांट- गांठ से हो रही है।

बोदारी से कोई गुप्ता का ट्रैक्टर कल रात 8:30 बजे थाना लाया गया है जिसे वन सीमा क्षेत्र से पकड़ा गया है लेकिन वह खाली ट्रैक्टर था और बताया गया कि जंगल विभाग द्वारा लकड़ी परिवहन के लिए उस ट्रैक्टर को बुलाया गया था इसलिए तपसीस कर छोड़ दिया गया है।
सतीश मिश्रा थाना प्रभारी
मझौली

Similar Post You May Like

ताज़ा खबर

Popular Lnks